Breaking News
Home » मध्यप्रदेश » उज्जैन » उज्जैन-विशाल ध्वज के साथ निकली बाबा श्री महाकाल की पालकी

उज्जैन-विशाल ध्वज के साथ निकली बाबा श्री महाकाल की पालकी

श्रावण माह के पहले दिन राजाधिराज ने किया उज्जयिनी का भ्रमण, सवारी मार्ग में हजारों श्रद्धालुओं ने भगवान, महाकाल को पुष्प अर्पित कर दर्शन लाभ लिया

उज्जैन-विशाल ध्वज के साथ निकली बाबा श्री महाकाल की पालकी
उज्जैन-विशाल ध्वज के साथ निकली बाबा श्री महाकाल की पालकी

उज्जैन- विशाल ध्वज के साथ भगवान महाकाल की श्रावण मास के पहले दिन सोमवार को उज्जयिनी के भ्रमण पर निकलकर अपनी प्रजा को दिये दर्शन। भगवान श्री महाकाल का मंदिर के सभामंडप में विधिवत पूजन-अर्चन करने के बाद अपने निर्धारित समय पर पालकी में विराजित श्री मनमहेश नगर भ्रमण पर निकले। भगवान महाकाल की पालकी के नगर भ्रमण के रवाना होने के पूर्व संभागायुक्त श्री एम.बी.ओझा, एडीजीपी श्री व्ही.मधुकुमार, कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे, पुलिस अधीक्षक श्री मनोहर सिंह वर्मा पूजन-अर्चन में शामिल हुए और पालकी को कांधा देकर नगर भ्रमण के लिये रवाना किया। विधिवत पूजन-अर्चन पं.घनश्याम शर्मा पुजारी ने सम्पन्न कराई। पालकी जैसे ही श्री महाकालेश्वर मंदिर के मुख्य द्वार पर पहुंची, मध्य प्रदेश सशस्त्र पुलिस बल के जवानों ने भगवान श्री महाकाल को सलामी दी। इसके बाद पालकी नगर भ्रमण को रवाना हुई। पालकी में विराजित भगवान श्री मनमहेश का दर्शन लाभ सवारी मार्ग के दोनों ओर खडे हजारों श्रद्धालुओं ने लिया। सवारी मार्ग में हजारों श्रद्धालुओं ने भगवान महाकाल को पुष्प अर्पित कर दर्शन किये। कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे सवारी मार्ग में पालकी के आगे झांझ बजाते हुए चल रहे थे।
इस बार श्रावण माह के पहले दिन सोमवार आने के कारण भगवान श्री महाकाल की सवारी पहले ही दिन निकाली गई। श्री महाकाल मंदिर में प्रशासन एवं पुलिस द्वारा की गई बेहतर व्यवस्थाओं के लिए श्रद्धालुओं ने उनकी सराहना की। व्यवस्थाओं पर प्रातः से ही मंदिर प्रबंध समिति के प्रशासक श्री एस.एस. रावत सतत निगरानी रखे हुए थे और व्यवस्थाओं का जायजा ले रहे थे। संभागायुक्त श्री एम.बी.ओझा, ए.डी.जी.पी. श्री व्ही. मधुकुमार, कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने भी भगवान महाकाल के दर्शन कर व्यवस्थाओं के संबंध में जानकारी प्राप्त की।

श्री महाकालेश्वर की सवारी श्री महाकाल मंदिर से गुदरी चौराहा, बक्षी बाजार, कहारवाडी होते हुए रामघाट पहुंची। रामघाट पर भगवान मनमहेश का मां क्षिप्रा के जल से अभिषेक कर पूजा -अर्चना की गई। पूजन-अर्चन के बाद भगवान महाकाल की सवारी रामघाट से रामानुज कोट, मोढ की धर्मशाला, कार्तिक चौक, खाती का मंदिर, सत्यनारायण मंदिर, ढाबा रोड, टंकी चौराहा, छत्रीचौक, गोपाल मंदिर पहुंची, जहां परंपरानुसार सिंधिया स्टेट की ओर से गोपाल मंदिर के पुजारी के द्वारा भगवान श्री महाकाल का पूजन किया गया। इसके पश्चात सवारी गोपाल मंदिर से पटनी बाजार, गुदरी चौराहा होती हुई पुनः अपने निर्धारित समय पर श्री महाकाल मंदिर पहुंची। “कालों के काल की जय महाकाल की” उद्घोष के जयकारे सवारी मार्ग में गूंजते रहे।
उज्जैन में श्री महाकालेश्वर भगवान की सवारी मार्ग में हजारों श्रद्धालु भक्तिमय होकर नाच-गान, डमरू, झांझ मजीरे बजाकर भगवान महाकाल के गुणगान करते हुए शामिल हुए। विभिन्न भक्त रंग-बिरंगी पोषाक पहने हुए अपनी मस्ती में मस्त होकर भगवान महाकाल की आराधना और उनके गुणगान करते हुए तथा महाकाल के जयकारे लगाते हुए सवारी के साथ चल रहे थे। सवारी मार्ग में पानी का छिड़काव भी किया गया था।
सवारी के साथ विधायक डॉ.मोहन यादव, म.प्र. जनअभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डेय, जिला पंचायत के उपाध्यक्ष श्री भरत पोरवाल, जिला पंचायत के सदस्य श्री करण कुमारिया, पार्षद श्री संतोष यादव सहित अनेक जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक, श्रद्धालुगण तथा प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों में संभागायुक्त, ए.डी.जी.पी., कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर आदि चल रहे थे। प्रशासन के आला अधिकारी सवारी मार्ग में व्यवस्थाओं का सतत मुआयना कर व्यवस्था करने में अपनी महती भूमिका अदा कर रहे थे।
श्री महाकालेश्वर भगवान की दूसरी सवारी 17 जुलाई सोमवार को निकाली जायेगी, जिसमें पालकी में भगवान श्री चन्द्रमौलेश्वर एवं हाथी पर श्री मनमहेश विराजित होकर नगर भ्रमण पर निकलेंगे।

मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी ने किये महाकाल के दर्शन


श्रावण माह के पहले दिन सोमवार होने के कारण प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह ने भी गर्भगृह में भगवान महाकाल के दर्शन एवं अभिषेक-पूजन किया। पूजा-अर्चना पुजारी प्रदीप गुरू ने संपन्न कराई। नंदीहॉल में श्रीमती साधना सिंह का मंदिर प्रबंध समिति की ओर से संभागायुक्त श्री एम.बी.ओझा, कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने भगवान महाकाल की प्रसादी एवं दुपट्टा भेंट कर सम्मान किया।

Check Also

मैं नही तू की भावना को परिलक्षित करता है सूफी गायन- सांसद डॉ. मालवीय

मैं नही तू की भावना को परिलक्षित करता है सूफी गायन- सांसद डॉ. मालवीय

सूफियाना कव्वाली सुन झूम उठे श्रोतागण, कालिदास अकादमी में सजी सुरों की महफिल उज्जैन : …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *