Breaking News
Home » मध्यप्रदेश » आगर-मालवा » क्षेत्रीय विधायक श्री परमार द्वारा जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े का शुभारम्भ

क्षेत्रीय विधायक श्री परमार द्वारा जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े का शुभारम्भ

आगर विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री गोपाल परमार ने आज यहां जिला चिकित्सालय में विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर आयोजित जनसंख्या स्थरीकरण पखवाड़े का शुभारम्भ माँ सरस्वती का विधिवत् पूजन कर किया।

क्षेत्रीय विधायक श्री परमार द्वारा जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े का शुभारम्भ
क्षेत्रीय विधायक श्री परमार द्वारा जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े का शुभारम्भ

यह पखवाड़ा 11 जुलाई से 11 अगस्त तक पूरे एक माह का रहेगा। श्री परमार ने इस अवसर पर अपने उद्बोधन में कहा कि हमारे जिले तथा प्रदेश में जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है। इसलिये जनसंख्या को नियंत्रित करने के लिये ध्यान देने की जरूरत है। शासन द्वारा विभिन्न योजनाओं के माध्यम से जनसंख्या नियंत्रण के लिये प्रयास किए जा रहे है। सरकार द्वारा प्रयास करना ही पर्याप्त नहीं हैं। जनसंख्या वृद्धि को रोकने के लिये हम सभी को मिलजुल कर प्रयास करना होगा तभी इनके अच्छे परिणाम सामने आऐंगे।

श्री परमार ने कहा कि शासकीय योजनाओं का लाभ समाज के निचले तबके तक पहुंचाने की आवश्यकता है। इसलिये इन योजनाओं का लाभ जरूरतमंद व्यक्तियों तक पहुंचाया जाए। उन्होंने लोगों से कहा कि वे शासन द्वारा क्रियान्वित की जा रही योजनाओं का पूरी तरह से दोहन कर अपना जीवन स्तर ऊचा उठाये।

कलेक्टर श्री विनोद कुमार शर्मा ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में कहा कि विश्व में सबसे ज्वलंत समस्या है तो वह है जनसंख्या। जनसंख्या के कारण पूरा विश्व परेशान है। जनसंख्या के मामले में पहले नम्बर पर चीन है और दूसरे नम्बर पर भारत आता है। पिछले 30 सालों में बहुत परिवर्तन आया है। प्रकृति ने हमे सीमित साधन दिए है। इसलिये जनसंख्या नियंत्रण आवश्यक है। छोटा परिवार होगा तो सुखी रहेगा और बच्चों की परवरिस तथा लालन-पालन बेहतर तरीके से हो सकेगा। उन्होंने कहा कि आशान्ति और प्रदूषण का कारण ही जनसंख्या हैं। अशिक्षा तथा समझ न होने के कारण जनसंख्या में निरन्तर वृद्धि होती जा रही है। अब धीरे-धीरे लोगों में समझ आ रही हैं। परिवार कल्याण कार्यक्रम के अन्तर्गत जो शिविर आयोजित किए जा रहे है। उनमें पुरूषों की अपेक्षा महिलाए नसबंदी ऑपरेशन के लिये सहमत हुई हैं जबकि महिलाओं की अपेक्षा पुरूषों की संख्या अधिक होना चाहिए।

उन्होंने आगे कहा कि छोटा परिवार रखने के लिये शिक्षा तथा क्लास की जरूरत नहीं हैं, समझ की जरूरत हैं। बच्चों, युवाओं और वृद्ध लोगों को जीवन जीने का अधिकार है। शिक्षा की कमी तथा अज्ञानता के कारण बाल विवाह होते है इसे रोकने के लिये सभी लोगो को प्रयास करना होगा। उन्होंने कहा कि नियमानुसार लड़के की 21 वर्ष तथा लड़की की 18 वर्ष की उम्र में विवाह किया जाना चाहिए और साथ ही छोटा परिवार रखे। दो ही बच्चे की करें। साथ ही पहले बच्चे और दूसरे बच्चे के बिच 5 वर्ष का अंतर रखे ।

इस अवसर पर मण्डल अध्यक्ष श्री भेरूसिंह चौहान, प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जे.सी. परमार, सिविल सर्जन डॉ. व्ही.बी.जैन, आर.एम.ओ. डॉ. अजय दिवाकर, डीपीएम. डॉ. सौमित्र बुधोलिया, जिला मिडिया अधिकारी श्री आर.सी. ईरवार, जिला चिकित्सालय के अधिकारी-कर्मचारी, पत्रकारगण उपस्थित थे। कार्यक्रम के पश्चात् क्षैत्रीय विधायक श्री परमार ने जनसंख्या स्थरीकरण प्रचार रथ को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया

Check Also

महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिये हर सम्भव प्रयास किये जाऐंगे – डॉ. पस्तौर

उज्जैन संभाग के कमिश्नर डॉ. रवीन्द्र पस्तौर ने कहा कि महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten − 2 =